CIF Full Form In Hindi | CIF क्या है?

क्या आप CIF के बारे में जानना चाहते है? आपके इस Post को खोलने के पीछे यही कारण होगा की आप इसके बारे में जानना चाहते है। आज इस Post में मैं आपको CIF के बारे में सारी जरूरी बातें बताने की कोशिश करूंगा और साथ ही आपकी सारी शंकाओं को दूर करने की भी कोशिश करना।

CIF क्या है, इसका Full Form क्या है, यह किस Field से related है, आपके यह कैसे काम आ सकता है यह सारी जानकारी मैं आपको यहां पर देने की कोशिश करूंगा।

आज कल हर एक Indian के पास खुद का Bank Account होता ही है, इस विषय को समझने से पहले आपको में बता दू की यह Banking से ताल्लुकात रखता है इस कारण यह आप सभी के लिए जानना बहुत ही आवश्यक हो जाता है।

जब आप Bank Account खुलवाते है तो आपको Passbook दिया जाता है उसके Front Page पर आपके द्वारा Bank को भेजी गई Detail, Bank का IFSC Code, Account Number और उसी के नीचे CIF Number भी लिखा होता है। अभी हम इस Post में इसी के बारे में ही जानेंगे।

CIF Full Form

CIF का Full Form “Customer Information File” होता है, हिंदी में इसे हम ग्राहक सूचना फ़ाइल भी कह सकते है। यह एक Online Computerized Storing Files होता है जहाँ पर काफी सारे Bank के Customers के Database और Personal Data का Collection होता है। इसी के अंदर Purchase History और Transactions Records के Details भी होते है।

अगर मैं आपको आम भाषा मे समझाने की कोशिश करूँ तो आप जितनी बार भी Bank से Contact करते है, इसके अलावा आपके पूरे Accounts की सारी detail इसी CIF में Store होती है। इसे Paper Document (Hard Copy) में भी Store किया जाता है।

यहां पर आपको एक और बात जाननी चाहिए की CIF Number है Bank Account का अलग अलग होता है। ऐसा इसलिए होता क्योंकि इन्ही के तहत आपके सारे Details Server में save किये जाते है। इस कारण इनका अलग अलग होना और भी जरूरी हो जाता है।

सभी बैंकों में यह CIF Number अलग अलग Digit में available होते है, जैसे HDFC Bank में CIF Number 8 Digit का होता है, SBI में 11 Digit का होता है, Axis Bank में 4 Digit का होता है और Central Bank में 10 Digit का होता है, इसी प्रकार सब सभी बैंकों में यह CIF Number अलग अलग Digit का होता है।

यह Integrated Banking Application Packages का ही एक Component होता है, जिसे Support operational activities के रूप में हर Bank के अंदर रखा जाता है। इससे Bank Employers को आपके बारे में ज्यादा देखना नही पड़ता बस अपने Customer का नाम डालते ही सारी detail आपके सामने होगी।

CIF customer relationship management (CRM) का ही एक Part होता है। CRM एक ऐसा Business Process है जिसकी मदद से कोई भी Business Company अपने Clients और Customers के साथ अपने Relations को सुधारने के लिए अपनाती है।

अन्य काफी Commercial Banks में यह Customes को Products और Services के बारे में Information देने में मदद करता है। इतना ही नही यह अन्य पहले पूछे गए queries को भी नए Customers के सामने रखता है ताकि उन्हें उस Product पर Trust करने में ज्यादा मुश्किल न हो। 

अंतिम पंक्तियॉ

CIF का Full Form और उसके बारे में सारी जरूरी Detail में मैंने आपको इस Post में देने की कोशिश की है अगर आपको मेरा यह Post अच्छा लगा तो तुरंत हमें Comment कर के बताए। अगर आपको इस Topic से Related कोई Issue है या फिर सवाल है तो वो भी हमें नीचे Comment करके बताये, मैं आपको जल्द से जल्द Comment करने की कोशिश करूंगा।

अन्य कोई Topic अगर आप हमें लिखने के लिए Suggest करना चाहते है तो वो भी नीचे Comment करके बता दे।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *